Ajwain और इसके उपयोग के स्वास्थ्य लाभ

on September 23, 2020

उत्तराखंडी विस्तृत खाद्य संस्कृति का प्रतीक यहाँ का 'सील पीसी नूड़ /लूण' है। पहाड़ी लूण यहाँ की खाद्य परम्परा का एक अभिन्न अंग बन गया है। पहाड़ो में होने वाले खाद्य पदार्थो ककड़ी, विभिन्न फल, भुट्टा आदि के साथ पहाड़ी लूण का संगम इनके स्वाद को अविस्मरणीय बना देता है। पहाड़ो में स्थानीय निवासियों के द्वारा विभिन्न प्रकार के पहाड़ी लूण तैयार किये जाते हैं ,जिसमे अजवाइन, काली मिर्च, लाल मिर्च, तिमूर, लहसुन नारियल, भांग, आंवला, पोदीना, काली मिर्च, भट्ट, जीरा, अदरक, लहसुन, हींग,  तिल, भंगीरा, हरा धनिया, भूनी मिर्च, काला जीरा, अलसी, दैण आदि प्रमुख है।

पहाड़ी लूण बनाने में प्रायः सील बट्टे, सेंधा नमक या पहाड़ी मोटा नमक तथा विभिन्न प्रकार के गुणकारी पहाड़ी मसाले प्रयोग किये जाते हैं। इन्ही गुणकारी पहाड़ी मसालों के प्रभाव से 'पहाड़ी लूण ' गुणकारी हो जाता है। आज हम ऐसे ही एक पहाड़ी मसाले अजवाइन (Ajwain) और अजवाइन से तैयार 'पहाड़ी अजवाइन लूण' के फायदों (Benefits of ajwain salt) के बारे में बात करेंगे।

ajwain health benefits

अजवाइन के बारे में 

• अजवाइन का वैज्ञानिक नाम Trachyspermum ammi है तथा यह Umbellifers कुल का पौधा होता है।

• आम तौर पर इसे सम्पूर्ण भारत में उगाया जाता है। अजवाइन का पौधा झाड़ीनुमा होता है।

• अजवाइन का प्रयोग भारत में दवा और मसाले के रूप में होता है। इसकी तासीर गर्म होती है। यह वात और कफ विकार को ठीक करती है और पित्त को बढ़ाती है।

• अजवाइन को हिंदी में अजवाइन, अजमायन, जबायन, अजवां, अजोवां आदि नामो से जाना जाता है।

• अजवाइन को इंग्लिश में एजोवा सीड्स (Ajova seeds) या एजोवन (Ajowan) या कैरम (Carum or Carom Seeds) या ओमम (Omum) आदि नाम से जाना जाता है।

• अजवाइन को नेपाली में ज्वानो, अरबी में कमूने मुलुकी या अमूसा, पर्शिया में नानखा या जीनान् कहते हैं।

अजवाइन और Ajwain नमक के फायदे (Benefits of Ajwine and its salt)

• अजवाइन का आयुर्वेदिक महत्व बहुत अधिक है। इसके विषय में एक सूक्ति प्रचलित है - 'एकाजवानी शतमन्ना पचिका' अर्थात अकेली अजवाइन ही सैकड़ों प्रकार के अन्न को पचाने वाली होती है।

• अजवाइन लूण का प्रयोग भोजन में करने ये हमारी पाचन सम्बन्धी समस्या ख़त्म कर देता है। ये हमारे भोजन को सुपाच्य बनता है तथा हमारी भूख भी बढ़ता है।

• अजवाइन में चिरायते का कटु पौष्टिक तत्व, हींग का वायुनाशक गुण और कालीमिर्च का अग्निदीपक गुण पाया जाता है। अपने इन्हीं गुणों के कारण अजवाइन कफ, वायु, पेट का दर्द, वायु गोला, आफरा तथा कृमि रोग को नष्ट करने में समक्ष है।

• अजवाइन हमारे शरीर से अतिरिक्त चर्बी(वसा) हटाने में मददगार होती है। रातभर अजवाइन को भिगोकर रख कर, अगली सुबह खाली पेट इस अजवाइन पानी में शहद मिला कर पीने से मोटापा कम होता है। अजवाइन का पानी पीने से शरीर का मेटाबॉलिज्‍म बढ़ता है, जिससे अतिरक्त चर्बी कम होने लगती है।

• महिलाओ के पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द में यदि गुनगुने पानी के साथ अजवाइन का सेवन किया जाये तो दर्द में आराम मिलता है।

• कमर तथा जोड़ो के दर्द में यदि अजवाइन को सरसो के तेल के साथ गरम कर, इसकी मालिश दर्द वाले स्थान पर की जाये तो दर्द में आराम मिलता है।

• यदि आप कब्ज तथा गैस से पीड़ित हैं, तब आपको गुनगुने पानी के साथ अजवाइन और काला नमक का मिश्रण खाना चाहिए। कब्ज तथा गैस में अजवाइन एक अचूक औषधि है।

• सर्दी -जुखाम , ठण्ड लगने , छाती में कफ जम जाने आदि में अजवाइन का सेवन लाभकारी होता है। क्योकि अजवाइन में एंटीऑक्सीडेंट तथा जलनरोधी तत्त्व पाए जाते हैं। जिससे ये छाती में जमे कफ, सर्दी जुखाम और सायनस की परेशानी आदि में लाभ देता है।

• अजवाइन के चूर्ण की पोटली बनाकर उसकी सिकाई करने से गठिया रोग में लाभ मिलता है। इसके अतिरिक्त यदि अजवाइन के रस के साथ सौंठ का सेवन किया जाये तो गठिया रोग में आराम मिलता है।

• यदि आप मुँह की दुर्गन्ध से परेशान हैं, तो आपको अजवाइन को पानी में उबालकर, इस पानी से दिन में 2-3 बार कुल्ला करना चाहिए। यह क्रिया 2-3 दिन दोहराने से मुँह की दुर्गन्ध से छुटकारा मिल जायेगा।

• अधिक तीखा भोजन करने के बाद छाती में जलन की परेशानी हो जाती है। ऐसे में 1 ग्राम अजवाइन, और बादाम की 1 गिरी को खूब चबा-चबा कर, या पीस कर खाएं। इससे फायदा होता है।

• महिलाओ को डॉक्टर के द्वारा प्रसव के बाद अजवाइन का पानी पीने को बोला जाता है। ऐसा करने से पेट की सफाई होती है और शरीर को गर्मी भी मिलती है।

• अजवाइन के साथ, अदरक या नींबू पानी , काला नमक आदि को मिलाकर पीने से पेट की गैस , पेट फूलना आदि समस्या से छुटकारा मिलता है। क्योकि अजवाइन इंटेरटाइन में फंसी गैस को निकालता बहार निकाल देता है।

चलते चलते

अजवाइन की खेती पूरे भारत में की जाती है, किन्तु हिमालयी बेल्ट में होने वाली अजवाइन, अन्य की तुलना में अधिक प्रभावकारी एवं गुणकारी होती है। देश-विदेशो में पहाड़ी 'अजवाइन' और 'अजवाइन नमक' की बहुत मांग है। स्थानीय स्तर पर लोगो ने 'पहाड़ी स्वादिष्ट नमक' कुटीर उद्योग को अपनी आजीविका का साधन बना लिया है। आप पहाड़ी स्वादिष्ट नमक( Pahadi flavored salt) को ऑनलाइन साइट www.bigtokari.com से सीधे आर्डर कर सकते हैं। आप हमारी 'Andriod App' के जरिये हमारे अन्य पहाड़ी प्रोडक्ट्स को भी आर्डर कर सकते है। हमारी Android App' को आप दिए गए लिंक से सीधे 'प्ले-स्टोर' से Install कर सकते हैं - https://bit.ly/33KYTLI

LEAVE A COMMENT

Please note, comments must be approved before they are published


BACK TO TOP